मुंबई : एसटी हड़ताल की मार, काम पर नहीं लौट सके सरकारी कर्मचारी

मुंबई : एसटी हड़ताल की मार, काम पर नहीं लौट सके सरकारी कर्मचारी

मुंबई : महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम के हड़ताल का सामना करने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने निजी बस चालक, स्कूल बस, निजी कंपनियों के बस, मालवाहक बसों को भी आम आदमी को लाने-ले जाने की अनुमति दे दी है। इस बीच, हड़ताल की वजह से सरकारी व निजी कर्मचारी मुंबई नहीं पहुंच सके हैं। इससे सरकारी कामकाज प्रभावित हो रहा है। महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम के 223 डिपो पर बस परिचालन सोमवार की सुबह बंद कर दिया। मुंबई क्षेत्र के कुछ डिपो भी हड़ताल में शामिल हैं। दरअसल, एमएसआरटीसी के कर्मचारियों का एक यूनियन बीते 28 अक्टूबर से ड्यूटी पर नहीं आ रहा है। कर्मचारी संघों के सूत्रों का कहना है कि एमएसआरटीसी के कर्मचारियों का एक धड़ा नकदी संकट से जूझ रहे निगम का विलय राज्य सरकार में करने की मांग को लेकर हड़ताल पर है।
बता दें कि परिवहन मंत्री अनिल परब ने बीते बुधवार को कहा था कि एमएसआरटीसी का राज्य सरकार से विलय करने और घाटे में चल रहे निगम से संबंधित अन्य मांगों पर दिवाली के बाद बातचीत होगी। बेड़े में 16 हजार से अधिक बसें और करीब 93 हजार कर्मचारी हैं। हड़ताल के चलते सरकारी कर्मचारी कार्यालय नहीं पहुंच सके। इससे मंत्रालय, बीएमसी, जिलाधिकारी, म्हाडा जैसी अन्य सरकारी व गैरसरकारी कार्यालयों में सोमवार को उपस्थिति बेहद ही कम रही। पूछने पर बताया गया कि दिवाली मनाने के लिए जो कर्मचारी गांव गए थे, वे हड़ताल की वजह से मुंबई नहीं पहुंच सके हैं।


लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay