मुंबई : सिख समुदाय के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी, कंगना को मुंबई पुलिस के समक्ष होना होगा पेश

मुंबई : सिख समुदाय के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी, कंगना को मुंबई पुलिस के समक्ष होना होगा पेश

मुंबई : विवादित बयानों के कारण सुर्खियों में रहनेवाली अभिनेत्री कंगना रणौत को कल मुंबई उच्च न्यायालय में बड़ा झटका लगा है। कंगना के खिलाफ सिख समुदाय द्वारा मामला दर्ज कराया गया था। एफआईआर को खारिज करने के लिए याचिका पर सुनवाई करते हुए मुंबई हाईकोर्ट ने उन्हें २२ दिसंबर से पहले मुंबई पुलिस के अंगना में कंगना को पेश होने का आदेश दिया है।
मुंबई पुलिस ने अदालत को आश्वासन दिया है कि वह किसान आंदोलन को खालिस्तानी आतंकवादियों से जोड़नेवाले सोशल मीडिया पोस्ट के मामले में उन्हें २५ जनवरी तक गिरफ्तार नहीं करेगी। हालांकि पुलिस ने कंगना पर मामले की जांच में सहयोग न करने और नोटिस भेजे जाने के बावजूद पूछताछ के लिए हाजिर न होने का आरोप लगाया है। कोर्ट के आदेश पर जवाब में कंगना के वकील ने अदालत में कहा है कि वे २२ दिसंबर को बयान दर्ज करने खार पुलिस स्टेशन में आएंगी। न्यायमूर्ति नितिन जामदार और सारंग कोतवाल की खंडपीठ ने सोमवार को सुनवाई के दौरान कहा कि मामला रणौत की आजादी के मौलिक अधिकार से जुड़ा है। मामले में सिख संगठनों की ओर से की गई शिकायत के आधार पर खार पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है। अभिनेत्री एफआईआर खारिज करने की मांग करते हुए हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है। कोर्ट में पुलिस का पक्ष रख रहीं वरिष्ठ सरकारी वकील अरुणा पई ने कहा कि खार पुलिस ने १ दिसंबर को अभिनेत्री को नोटिस भेजकर पूछताछ के लिए बुलाया है लेकिन उनकी ओर से कोई जवाब नहीं आया। ४१ ए के तहत उन मामलों में नोटिस भेजा जाता है, जिनमें तुरंत गिरफ्तारी की जरूरत नहीं होती लेकिन पूछताछ के लिए आरोपी को पुलिस के सामने पेश होना होता है। अदालत २५ जनवरी २०२२ को मामले की अगली सुनवाई करेगी।


लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay