केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के विधायक बेटे नितेश राणे को जेल कि बेल?

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के विधायक बेटे नितेश राणे को जेल कि बेल?

महाराष्ट्र: शिवसेना कार्यकर्ता संतोष परब पर हिंसक हमले के मामले में नितेश राणे के गिरफ्तार होने की आशंका है. शिवसेना बीजेपी विधायक नितेश राणे के खिलाफ काफी आक्रामक दिखाई दे रही है. नितेश राणे को अरेस्ट किए जाने की मांग करते हुए उनकी ओर से पुलिस स्टेशन में शिकायत भी दर्ज की गई है. वहीं केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के विधायक बेटे नितेश राणे ने सिंधुदुर्ग जिला सत्र न्यायालय में गिरफ्तारी पूर्व जमानत के लिए याचिका दाखिल की है.मंगलवार को इस अर्जी पर सुनवाई हुई. कोर्ट अब कल इसकी सुनवाई करेगा. इस लिए नितेश राणे को जेल होगी या जमानत मिलेगी, इसका फैसला बुधवार को होगा.
मंगलवार को जिला प्रमुख न्यायाधीश एस.वी.हांडे के सामने नितेश राणे की गिरफ्तारी से पूर्व जमानत अर्जी पर सुनवाई शुरू हुई. नितेश राणे की ओर से वकील एडवोकेट संग्राम देसाई ने दलीलें पेश की. दूसरी ओर सरकारा का पक्ष रखते हुए वकील प्रदीप घरत, भूषण सालवी और गजानन तोडकरी ने अपनी-अपनी दलीलें पेश कीं. साढ़े तीन घंटे तक चली सुनवाई के बाद शाम साढ़े छह बजे कोर्ट का समय खत्म हो गया. संग्राम देसाई ने कोर्ट से समय आगे बढ़ाने की गुजारिश की. दस मिनट और बहस होने के बाद कोर्ट ने सुनवाई कल फिर जारी रहने की बात कहते हुए आज की सुनवाई खत्म की.
आज की सुनवाई शुरू होने के बाद कोर्ट ने सरकारी वकील से पूछा कि क्या आपको जमानत दिए जाने पर कोई एतराज़ है? सरकारी वकील ने हां में जवाब दिया. इसके बाद नितेश राणे की ओर से उनके वकील संग्राम देसाई ने बोलना शुरू किया. उन्होंने कहा कि, ‘पुलिस अब मोबाइल जब्त करने की मांग कर रही है. 24 और 25 दिसंबर को लगातार दो दिन जब नेितेश राणे और संदेश सावंत को पूछताछ के लिए बुलाया, तब मोबाइल क्यों नहीं जब्त किया गया? अब अरेस्ट करने की कोशिश क्यों शुुरू की गई है? ‘
राणे के वकील ने कहा कि, ’24 दिसंबर को विधानसभा की सीढ़ियों पर जो घटा. एक मंत्री पर कमेंट किया गया, उसके बाद ही नितेश राणे की गिरफ्तारी की कोशिशें शुरू की गईं. साफ है कि द्वेषपूर्ण भावनाओं की वजह से अरेस्ट करने की साजिश रची जा रही है.’ कल यानी बुधवार को 2 बज कर 45 मिनट पर सुनवाई शुरू होगी. सबकी नजरें इस फैसले पर लगी हैं.


लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay