रतन टाटा से एक बार कहा था कि RSS धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करता: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी

रतन टाटा से एक बार कहा था कि RSS धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करता: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी

पुणे : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने गुरुवार को महाराष्ट्र के पुणे में स्थित सिंहगढ़ किला क्षेत्र में एक मल्टी स्पेशलिटी चैरिटेबल अस्पताल का उद्घाटन किया। इस अवसर पर बोलते हुए उन्होंने उस समय का एक किस्सा सुनाया जब वह महाराष्ट्र में शिवसेना-भाजपा सरकार में मंत्री थे। गडकरी ने कहा, औरंगाबाद में दिवंगत आरएसएस प्रमुख केबी हेडगेवार के नाम पर एक अस्पताल का उद्घाटन किया जा रहा था। मैं तब राज्य सरकार में मंत्री था। RSS के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने इच्छा व्यक्त की कि अस्पताल का उद्घाटन रतन टाटा करें और मुझसे मदद करने के लिए कहा। इसके बाद उन्होंने टाटा से संपर्क किया और उन्हें देश में गरीबों को कैंसर देखभाल प्रदान करने में टाटा कैंसर अस्पताल के योगदान का हवाला देते हुए अस्पताल का उद्घाटन करने के लिए राज़ी किया। इसके बाद अस्पताल पहुंचने पर, टाटा ने पूछा कि क्या अस्पताल केवल हिंदू समुदाय के लोगों के लिए है? मैंने उनसे पूछा कि आप ऐसा क्यों सोचते हैं? उन्होंने तुरंत जवाब दिया, क्योंकि यह RSS का है। केंद्रीय मंत्री ने कहा, मैंने उनसे कहा कि अस्पताल सभी समुदायों के लिए है और RSS में ऐसा कुछ (धर्म के आधार पर भेदभाव) नहीं होता है। फिर उन्होंने टाटा को कई बातें बताईं और बाद में बहुत खुश हो गए।


लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay