स्कूलों में अब एक मिनट के लिए भी नहीं होगा पावरकट

स्कूलों में अब एक मिनट के लिए भी नहीं होगा पावरकट

मुंबई, राज्य में शैक्षिक बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने स्कूलों को निर्बाध रूप से बिजली आपूर्ती करने का फैसला किया है. महाराष्ट्र की स्कूल शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने आज इसकी घोषणा की. उन्होंने यह भी कहा कि महाराष्ट्र सरकार स्कूलों को सब्सिडी पर बिजली की आपूर्ति करने पर भी विचार कर रही है.
गायकवाड़ ने अपने ट्विटर अकाउंट से इस बात की खुशखबरी दी. उन्होंने ट्वीट कर यह भी बताया कि सरकार ने स्कूलों के लंबित बिजली बिलों के लिए 14 करोड़ रुपए आवंटित किये हैं. गायकवाड़ ने स्कूलों को आश्वासन दिया कि सभी स्कूलों में बिजली की आपूर्ति होगी और उन्हें बिजली कटौती का सामना नहीं करना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि सरकार शैक्षणिक संस्थानों के लिए रियायती बिजली दरों की मांग पर विचार कर रही है. बाइबिल के एक उद्दरण के साथ 'लेट देयर बी लाइट!' गायकवाड़न ने ट्वीट किया "महाराष्ट्र सरकार ने फैसला किया है कि राज्य के स्कूलों को निर्बाध बिजली की आपूर्ति मिलेगी। हम स्कूलों के लिए सब्सिडी वाली बिजली की नीति पर भी काम कर रहे हैं."
इस भीषण गर्मी में सरकार के इस फैसले से निश्चित तौर पर स्कूलों को बड़ी राहत मिलेगी. स्कूलों में केवल पंखे और लाइट के लिए ही नहीं बल्कि प्रयोगशालाओं और अन्य जरूरी उपकरणों के संचालन के लिए भी बिजली की आवश्यकता होती है. महाराष्ट्र के स्कूलों में जल्द ही गर्मियों की छुट्टी पड़ने की उम्मीद है. शिक्षा विभाग के अनुसार, स्कूलों को अप्रैल में परीक्षाएं पूरी करनी हैं और 30 अप्रैल तक परिणाम घोषित करना है. महाराष्ट्र एचएससी, एसएससी परिणाम 2022 भी मई में जारी होने की उम्मीद है. 2 मई से महाराष्ट्र के स्कूल बंद हो जाएंगे और नया सत्र 13 जून से शुरू होगा.



लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay