अग्निसुरक्षा नियमों की अनदेखी 151इमारतों को नोटिस

अग्निसुरक्षा नियमों की अनदेखी 151इमारतों को नोटिस

मुंबई। बांद्रा पश्चिम में बैंडस्टैंड के पास बहुमंजिला जीवेश टेरेस इमारत की 13वीं और 14वीं मंजिल पर लगी आग ने इमारत में अग्नि सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं. आग की घटनाओ में अब बहुमंजिला इमारतों में घटनाएं बढ़ गई है। आग की गंभीरता इस बात से और बढ़ गई है कि इमारत में फायर ब्रिगेड काम नहीं कर रही है। इस संबंध में मुंबई फायर ब्रिगेड के मुताबिक फायर ब्रिगेड विभाग ने  2021 से अप्रैल 2022 के बीच 329 इमारतों का निरीक्षण किया था. जिनमें  151 इमारतों को  अग्निसुरक्षा उपाय कार्यरत नहीं होने पर  नोटिस जारी किया गया है।
बांद्रा स्थित  जीवेश इमारत के चौदहवे मंजिल के एक घर में  सोमवार को लगी थी।  आग में कोई हताहत नहीं हुआ ।एक दमकल जवान जरूर धुएं से बेहोस हो गया था।  दमकल जवानो ने जान की बाजी लगाकर २१ लोगो को सुरक्षित निकाला था। आग लगने के बाद आग  बुझाने में दमकल जवान को इस लिए परेशानी हुई क्योकि इमारत में लगे आग बुझाने की प्रणाली काम  नहीं कर रही थी।दमकल विभाग को अन्य बहुमंजिला इमारतों में भी आग बुझान की  प्रणाली  कार्यरत होने को लेकर पहले से  चिंता थी। दमकल विभाग ने नवंबर 2021 से  अप्रैल 2022 तक  329 इमारतों का निरीक्षण किया। जिनमे  151 इमारतों को आग बुझाने का सयंत्र नहीं चलने पर  नोटिस जारी किए गए हैं। बता दे कि इसके पहले 22 जनवरी को ताड़देव में 20 मंजिला सचिनम हाइट्स में आग  लगी थी। जिसमे नौ लोगो की जान चली गई थी।  इसके बाद फायर ब्रिगेड ने 120 पेज की रिपोर्ट तैयार किया था । इसमें दमकल विभाग ने किसी भी प्रकार की आग से बचाव के लिए इमारत  के प्रत्येक मंजिल पर  इलेक्ट्रिक शाफ्टों का  निरीक्षण सहित दरवाजे बनाने आदि की विभिन्न सूचनाएं दी थी।   जिससे आग लगने के बाद लगभग दो घंटे तक आग से बचा जा सकता है। इमारतों  को ओसी देते समय कम से कम दो वर्षों के लिए अग्निसुरक्षा ऑडिटर नियुक्त करना अनिवार्य किया गया था।


लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay