महाराष्ट्र : बागी विधायकों को Y+ सुरक्षा को लेकर शिवसेना का केंद्र पर हमला...

महाराष्ट्र : बागी विधायकों को Y+ सुरक्षा को लेकर शिवसेना का केंद्र पर हमला...

महाराष्ट्र : महाराष्ट्र का राजनीतिक संकट और गहरा गया। शिवसेना के कई कार्यकर्ता महाराष्ट्र और दिल्ली में पार्टी के विद्रोहियों के खिलाफ सड़कों पर उतर आए। उद्धव ठाकरे और बागी नेता एकनाथ शिंदे के बीच शिवसेना के नियंत्रण की लड़ाई के बीच दिन भर दावे और प्रतिवाद सामने आते रहे। इस बीच, डिप्टी स्पीकर की अयोग्यता नोटिस को लेकर शिंदे खेमे ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। डिप्टी स्पीकर की ओर से जारी अयोग्यता नोटिस और अजय चौधरी को विधायक दल का नेता बनाए जाने को चुनौती देते हुए दो याचिकाएं दायर की गई हैं। सुप्रीम कोर्ट की अवकाश पीठ और रजिस्ट्रार के सोमवार को सुबह 10.30 बजे शिंदे खेमे की याचिका पर सुनवाई करने की संभावना है। 

अपने मुखपत्र सामना के माध्यम से शिवसेना ने गुवाहाटी में 15 बागी विधायकों को वाई + सुरक्षा प्रदान करने के लिए केंद्र पर तीखा हमला किया है। लेख में शिवसेना ने कहा, "देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे के बीच अंधेरे में एक गुप्त बैठक हुई थी। उस बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद थे। इसके तुरंत बाद केंद्र सरकार द्वारा Y+ प्रदान करने का आदेश जारी किया गया था। 15 बागी विधायकों को सुरक्षा... असल में ये लोग सांड हैं या 'बिग बुल' 50-50 करोड़ रुपये में बिके।"

एकनाथ शिंदे के बागी तेवर ने शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे की परेशानी बढ़ा दी है। शिंदे गुट ने रविवार को जोरदार जवाबी कार्रवाई करते हुए उच्च शिक्षा मंत्री उदय सामंत को तख्तापलट में शामिल होने के लिए गुवाहाटी लाया। दूसरी तरफ, राज्य विधानसभा के डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल द्वारा अपने 16 विधायकों को अयोग्यता नोटिस भेजे जाने के खिलाफ विद्रोही खेमे ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। याचिका में मांग की गई है कि ज़ीरवाल शिंदे को शिवसेना के विधायक दल के समूह नेता के रूप में मान्यता दें। 



लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay