मुंबई लोकल में फर्जी ID से यात्रा करने वालों की खैर नहीं, राज्य सरकार ने कड़े किए निय

मुंबई लोकल में फर्जी ID से यात्रा करने वालों की खैर नहीं, राज्य सरकार ने कड़े किए निय

मुंबई लोकल और पुणे उपनगरीय ट्रेनों में यात्रा के नियम और भी ज्यादा कड़े कर दिए गए हैं. दरअसल पीक आवर में  लोकल ट्रेनों में बढ़ती हुई भीड़ और धक्का-मुक्की को देखते हुए यह फैसला लिया गया है. अब  पास या टिकट लेने के लिए  सरकार का परमिशन जरूरी होगा. दरअसल कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए आम यात्रियों के लिए मुंबई लोकल बंद रखी गई है. सिर्फ आवश्यकर सेवाओं से जुड़े कर्मचारियों को ही इसमें चढ़ने की अनुमति दी गई है. फिर भी बहुत भीड़ हो रही है. आम यात्री फर्जी आई कार्ड से टिकट और पास ले रहे हैं. इस समस्या से निपटने के लिए सरकार  ने अत्यावश्यक सेवाओं से जुड़े कर्मचारियों की एक लिस्ट तैयार की है. उस लिस्ट में नाम होने पर ही लोग आवश्यक सेवाओं के कर्मचारी माने जाएंगे. बाकी लोग ट्रेन पर नहीं चढ़ पाएंगे. इससे भीड़ कम होगी और कोरोना संक्रमण के फैलने का खतरा टलेगा.

राज्य का आपदा प्रबंधन विभाग ऑनलाइन सिस्टम के माध्यम से अत्यावश्यक सेवाओं से जुड़े कर्मचारियों की जानकारियां इकट्ठी कर रहा है. इसके लिए संबंधित संस्थाओं को अपने कर्मचारियों की डिटेल भेजने को कहा गया है. इस डिटेल की जांच पड़ताल कर के इनकी एक लिस्ट तैयार की जा रही है. ऐसे कर्मचारियों के मोबाइल फोन पर एक क्यूआर कोड आएगा. यह क्यूआर कोड टिकट खिड़की पर दिखाने पर ही ट्रेन पास या टिकट मिलेगा.


लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay