डोर-टू-डोर टीकाकरण अभियान के लिए डाटा संग्रह

डोर-टू-डोर टीकाकरण अभियान के लिए डाटा संग्रह

मुंबई : कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए सरकार सहित मनपा भी आम लोगों से जल्द से जल्द टीका लगवाने की अपील कर रही है। इसी के साथ प्रशासन चाहता है कि जो लोग चलने-फिरने में असमर्थ हैं उनका भी टीकाकरण किया जाए। इसके लिए डोर-टू-डोर टीका अभियान शुरू करने का विचार है। इसी कड़ी में मुंबई मनपा ने उन रोगियों का वार्ड स्तर पर डेटा एकत्र करना शुरू कर दिया है, जो बिस्तर पर पड़े हैं और कोरोनो का टीका लगवाना चाहते हैं। इसके लिए मनपा ने प्रत्येक वार्ड में इस तरह के मरीजों के लिए एक फॉर्म जारी किया है, जिसमें उनसे मरीजों का विवरण जमा करने का आग्रह किया गया है। फॉर्म में रोगी का नाम, उम्र, लिंग, बिस्तर पर रहने का कारण, अवधि और कोविड-19 का टीका लगवाने की इच्छा का उल्लेख करना होगा। मुंबई में कई बुजुर्ग और बिस्तर पर पड़े मरीजों को टीकाकरण केंद्रों की यात्रा करने में असमर्थता के कारण टीका नहीं लग पाया है। इसके अलावा, इनमें से अधिकांश लोग गरीब पृष्ठभूमि से ताल्लुक रखते हैं, जिसके परिणामस्वरूप उनके परिवार वाले मरीजों का टीकाकरण कराने के लिए उन्हें ले जाने के लिए एम्बुलेंस का खर्च नहीं उठा सकते हैं। बावजूद इसके परिवार वाले ऐसे मरीजों को कोविड -19 का टीका लगवाना चाहते हैं। मुंबई मनपा के अलावा नई मुंबई महानगर पालिका ने भी सड़कों के किनारे रहने वाले लोगों, असहाय, भिखारियों और समाज से वंचित लोगों के लिए टीका लगवाने के लिए एक विशेष अभियान चलाया है। कोरोना की संभावित तीसरी लहर की चेतावनी को देखते हुए सरकार अधिक से अधिक लोगों को टीका की जद में लाने का प्रयास कर रही है।



लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay