मुंबई : टैंकर माफियाओं पर हो कार्रवाई, आशीष शेलार ने BMC कमिश्नर को लिखा पत्र

मुंबई : टैंकर माफियाओं पर हो कार्रवाई, आशीष शेलार ने BMC कमिश्नर को लिखा पत्र

मुंबई : बीएमसी प्रशासन मुंबई महानगरपालिका क्षेत्र में हर रोज 3800 मिलियन लीटर पानी आपूर्ति का दावा करता है, इसके बावजूद बहुत से इलाकों टैंकर माफिया सक्रिय हैं। भाजपा नेता आशीष शेलार की मानें तो मुंबई में टैंकर से पानी पहुंचाने का कारोबार 3000 करोड़ रुपए से ऊपर है। टैंकरों के जरिए बड़े पैमाने पर पानी चोरी की जाती है। शेलार ने टैंकर माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए समुद्र के पानी को मीठा करने की 18,000 करोड़ रुपए की परियोजना पर  सवाल उठाया है।
केंद्रीय भूजल विभाग की तरफ से किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार, मुंबई शहर में 19,000 से अधिक पानी के कुएं हैं, जिनमें से 12,500 बोरवेल हैं। मुंबई महानगरपालिका ने 251 पानी के स्रोतों को नोटिस जारी किया है, जिनमें से 216 अवैध पानी के कुएं हैं। इनमें से एक ही कुएं से 80 करोड़ रुपए का पानी चोरी का मामला प्रकाश में आया है।
भाजपा नेता आशीष शेलार ने महानगरपालिका कमिश्नर इकबाल सिंह चहल और भूजल सर्वेक्षण व विकास यंत्रणा आयुक्त सी.डी. जोशी को पत्र लिख कर मुंबई सहित एमएमआर में पानी की चोरी और भूजल के अत्यधिक दोहन सहित अन्य मुद्दों पर ध्यान आकृष्ट किया है। उन्होंने मामले की जांच के लिए एसआईटी नियुक्त करने की भी मांग की है। शेलार ने कहा है कि मुंबई में अवैध और अनियंत्रित पानी की चोरी की जांच की जाए और उन पर जुर्माना लगाकर इसे रोका जाए। मुंबई के मौजूदा भूजल संसाधनों की क्षमता को ध्यान में रखते हुए, वैज्ञानिक अध्ययन के माध्यम से जल उपयोग नीति का निर्धारण करना आवश्यक है।
भाजपा नेता शेलार ने कहा कि एक तरफ महानगरपालिका प्रशासन गारगाई जैसी परियोजना को अधिक खर्चीला बताकर रद्द कर रहा है। वहीं दूसरी तरफ समुद्र के पानी को पीने योग्य बनाने के लिए 18,000 करोड़ रुपए खर्च करने का प्रस्ताव तैयार किया है। पानी चोरी और लिकेज रोक कर ही मुंबई वासियों के पानी की जरूरतों को पूरा किया जा सकता है।



लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay