जून महीने में फिर से कोरोना पसार पैर... मौसम का यूटर्न लोगों को बना रहा बीमार

जून महीने में फिर से कोरोना पसार पैर... मौसम का यूटर्न लोगों को बना रहा बीमार

मुंबई : जून महीने में फिर से कोरोना पैर पसार रहा है। कल से राज्य भर में स्कूल खुल रहा है लेकिन दो दिन पहले हुई बारिश के बाद उमस ने जीना मोहाल कर दिया है। बारिश के बाद कहीं धूप, कहीं छांव से लोग परेशान हैं। मौसम का यूटर्न लोगों को बीमार बना रहा है। चिकित्सकों के अनुसार मौसम में ये अंतर बैक्टीरिया को पनपने में मदद करता है। ऐसे में बैक्टीरिया जनित बीमारियां हो रही हैं, जिसकी वजह से लोग बड़ी संख्या में बीमार भी पड़ रहे हैं। इस कारण निजी अस्पताल व सरकारी अस्पताल में रोगियों की संख्या में इजाफा हो रहा है। इस मौसम में खास कर बुजुर्ग व बच्चे बीमार पड़ रहे हैं। तेज धूप से बचने के लिए बच्चे महिलाएं और बुजुर्ग छाता का प्रयोग कर रहे हैं। बदलते मौसम को देखते हुए सेहत का पूरा ख्याल रखना जरूरी है। इसमें किसी प्रकार की लापरवाही बरतने से तुरंत बीमार पड़ सकते हैं।

चिकित्सक डॉ. संदीप गौड का कहना है कि बरसात और तेज धूप में सर्दी, खांसी, उलटी, वायरल बुखार, दस्त, मलेरिया, डेंगू, टाइफाइड, पीलिया, खाज, खुजली आदि रोग पैâलने लगते हैं। इससे बचने के लिए बारिश का पानी, धूप व गंदगी से बचने की जरूरत है। वहीं बरसात के दिनों में पाचन शक्ति कमजोर हो जाती है। इस कारण खान-पान पर ध्यान रखना विशेष जरूरी है। इस मौसम में हल्का व शीघ्र पचने वाला आहार लेना चाहिए।

डॉक्टर रोहित सिंह ने बताया कि बरसात के मौसम में हल्का आहार लेना उत्तम होता है। इन दिनों में मूंग दाल का सेवन करना बेहतर होता है। यह रोग प्रतिरोधक व शक्तिवर्धक है। इस मौसम में गरिष्ठ भोजन, तले हुए चटपटे स्वाद वाले पदार्थों का सेवन न करें, तो बेहतर है। चिकित्सक की मानें तो कभी बरसात तो कभी धूप होने से शरीर के जोड़ वाले स्थान को साफ व सूखा रखना नितांत आवश्यक है। ऐसा नहीं होने पर दाद, खुजली आदि चर्म रोग होने की संभावना रहती है। बाजार के खाने-पीने की चीजों से परहेज करें। बरसात में नई-नई बीमारी होने की संभावना रहती है।


लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay