अजीत पवार और मंत्री अनिल परब के खिलाफ CBI जांच की मांग

अजीत पवार और मंत्री अनिल परब के खिलाफ CBI जांच की मांग

महाराष्ट्र : महाराष्ट्र भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने गृहमंत्री अमित शाह को खत लिखा है। इस चिट्ठी में चंद्रकांत पाटिल ने महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार और राज्य परिवहन मंत्री अनिल परब के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग की है। अमित शाह को लिखे खत में बीजेपी अध्यक्ष ने कहा है कि राज्य में इस वक्त कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी के गठबंधन वाली सरकार है। राज्य में कानून व्यवस्था चरमरा गई है और राजनीतिक ताकत का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है। 

चंद्रकांत पाटिल ने अपने खत में बर्खास्त पुलिस अधिकारी सचिन वाजे के खत का हवाला देते हुए दोनों नेताओं के खिलाफ जांच की मांग उठाई है। चंद्रकांत पाटिल ने कहा है कि दोनों ही नेताओं पर पैसा वसूलने का आरोप सचिन वाजे ने लगाया था लिहाजा इस मामले की जांच होनी चाहिए। उन्होंने अपने खत में कहा है कि सीबीआई जांच की उनकी यह मांग 1 करोड़ लोगों औऱ 10 लाख राज्य बीजेपी सदस्यों की तरफ से है। दरअसल एनआईए कोर्ट को लिखे पत्र में वाजे ने आरोप लगाया था कि उसे जबरन वसूली के लिए मजबूर किया गया था। इस दौरान उसने डिप्टी सीएम अजीत पवार और मंत्री अनिल परब का नाम लिया था। अब चंद्रकांत पाटिल की मांग है कि सीबीआई को इन दोनों नेताओं पर लगे आरोपों की जांच करनी चाहिए।

इस खत में बीजेपी अध्यक्ष ने कहा है कि महाविकास अघाड़ी सरकार के मंत्रियों की पोल-पट्टी खुलती जा रही है। अधिकारियों के ट्रांसफर कराने को लेकर जिस भ्रष्टाचार के आरोपों का खुलासा हुआ उसपर कार्रवाई करने के बजाए महाविकास अघाड़ी सरकार व्हिलस्लिब्लोअर्स को सलाखों के पीछे डाल रही है। इसी तरह के आरोप अजीत पवार और अनिल परब पर भी सचिन वाजे ने लागए हैं। परमबीर सिंह के खत के आधार पर अनिल देशमुख से सीबीआई ने पूछताछ की है। पाटिल ने अजीत पवार और अनिल परब के खिलाफ भी जांच की मांग की है।  आपको बता दें कि इससे पहले बीजेपी ने अजीत पवार के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग की थी और अब राज्य भाजपा अध्यक्ष ने इस मामले में कार्रवाई को लेकर सीधे तौर पर गृहमंत्री अमित शाह को चिट्ठी लिखी है।


लोगसत्ता न्यूज
Anilkumar Upadhyay